आश्विन माह – मां दुर्गा को समर्पित है यह महीना, शुभ माना जाता है पौधों को रोपना

23

हिंदू पंचांग के अनुसार पापिन माह वर्ष का सातवां महीना है। इस मास को क्वार भी कहा जाता है। यह महीना मां दुर्गा को समर्पित है। इस महीने के पूर्वजों का आशीर्वाद और देवी मां की कृपा, दोनों प्राप्त होते हैं। इस महीने में भगवान सूर्य की उपासना लाभकारी होती है। इस महीने दुर्गा सप्तशती का पाठ करें। इस पूरे महीने पौधे रोपना बहुत शुभ माना जाता है।

भाद्रपद शुक्ल पूर्णिमा से प्रारंभ होने वाले पितृपक्ष का समापन प्रमीन मास में कृष्ण पक्ष की चतुर्थी को होता है। श्राद्ध के 16 दिनों में पितरों से आशीर्वाद लेने के लिए उनका तर्पण और पिंडदान किया जाता है। कृष्ण कृष्ण अमावस्या को पितरों की पूजा के लिए श्रेष्ठ माना गया है। सर्वहित्र अमावस्या को पितृ पक्ष का अंतिम दिन माना जाता है। पापिन मास में शुक्ल पक्ष प्रतिपदा को नवरात्र प्रारंभ होते हैं। इन्हें शारदीय नवरात्रि कहा जाता है। शुक्ल पक्ष की चतुर्थी को मां पार्वती का पूजन किया जाता है। इस महीने पद्मिनी एकादशी व्रत पर भगवान श्री हरि विष्णु की आराधना की जाती है। इस महीने के शुभ कार्य करने की मनाही होती है। इस महीने इंदिरा एकादशी का व्रत रखा जाता है। इस माह कन्या संक्रांति, विश्वकर्मा जयंती भी मनाई जाती है। पौराणिक मान्यताओं के अनुसार माता लक्ष्मी भगवान की मास की पूर्णिमा को समुद्र मंथन से उत्पन्न हुई थीं। कहा जाता है कि शरद पूर्णिमा की रात्रि में माता लक्ष्मी पृथ्वी का भ्रमण करती हैं। मान्यता है कि यदि कोई व्यक्ति इस मास के प्रतिदिन घृत का दान करे तो वह सौंदर्य प्राप्त करती है।

इस ग्राफ़ में दी गई बदलाव धार्मिक आस्थाओं और लौकिक मान्यताओं पर आधारित हैं, जिन्हें केवल सामान्य जनरुचि को ध्यान में रखकर प्रस्तुत किया गया है।



Source link

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY