चाणक्य निति फॉर चिल्ड्रन: अपने बच्चे को योग्य और सफल बनाना सीखें आचार्य चाणक्य निति

21

आचार्य चाणक्य ने नीति शास्त्र में संतान से जुड़े कई पहलुओं का जिक्र किया है। आचार्य चाणक्य ने एक श्लोक के माध्यम से बताया है कि संतान को माता-पिता कैसे योग्य बना सकते हैं। चाणक्य कहते हैं कि संतान ही कुल का नाम रोशन करता है या डुबोती है। इसलिए हर माता-पिता को संतान की परवरिश अच्छे से चाहिए। चाणक्य के अनुसार, जानिए कैसे बनाएं योग्य संतान-

1. सदाचार गुणों से करें संतान को परिपूर्ण– चाणक्य कहते हैं कि हर माता-पिता को अपनी संतान को सदाचारी गुणों से परिपूर्ण रखना चाहिए। चाणक्य के अनुसार, केवल माता-पिता ही संतान को सदाचारी बना सकते हैं। चाणक्य का मानना ​​है कि संतान को हमेशा अच्छे संस्कार ही देने चाहिए, ताकि वह जीवन में अच्छा मुकाम हासिल कर सके।

ये 4 लोग दूसरों के पाप के होते हैं, जानिए क्या कहती है आज की चाणक्य नीति

2. झूठ बोलने से रोकना- चाणक्य कहते हैं कि बच्चों को हमेशा सच्चाई की राह पर चलना चाहिए। हर माता-पिता-अपने बच्चे को झूठ बोलने से रोकना चाहिए। चाणक्य का मानना ​​है कि झूठ बोलने की आदत बच्चों के अंदर जल्दी आ जाती है। इस बात को माता-पिता को गंभीरता से लेना चाहिए। संतान को ऐसी शिक्षा देनी चाहिए ताकि वह सत्य के रास्ते पर चलें।

3. अनुशासन- चाणक्य कहते हैं कि बच्चों का पालन-पोषण जरूरी होता है। संतान को योग्य व सफल बनाने के लिए उसे अनुशासन का महत्व देना चाहिए। चाणक्य कहते हैं कि जो लोग जीवन में संकटित नहीं होते हैं वह सफलता हासिल नहीं कर पाते हैं।

चाणक्य नीति: जीवनसाथी चुन समय हर व्यक्ति को इन बातों की करनी चाहिए, खुशहाल रहता है वैवाहिक जीवन

4. हार्ड के लिए करें ind- चाणक्य कहते हैं कि जो माता-पिता बच्चों को ज्यादा लाड-प्यार देते हैं वह आगे चलकर परिश्रम करने से बढ़े हैं।) इसलिए बच्चों में मेहनत करने की आदत डालनी चाहिए।

5. शिक्षा के लिए जागरूक- नीति शास्त्र के अनुसार, माता-पिता को बच्चों को शिक्षा के लिए ज्यादा से ज्यादा प्रेरित करना चाहिए। इसलिए वह योग्य व सफल हो सकता है।

Source link

NO COMMENTS