Short Story: कर लो दुनिया मुट्ठी में

1622440556 kar lo dunia

adsgoogle play 2

सरस सलिल विशेष


badal gya jine ka

लेखक- डा. नरेंद्र चतुर्वेदी

गुरुदेव ने रात को भास्करानंद को एक लंबा भाषण पिला दिया था.‘‘नहीं, भास्कर नहीं, तुम संन्यासी हो, युवाचार्य हो, यह तुम्हें क्या हो गया है. तुम संध्या को भी आरती के समय नहीं थे. रात को ध्यान कक्ष में भी नहीं आए? आखिर कहां रहे? आगे आश्रम का सारा कार्यभार तुम्हें ही संभालना है.’’



Source link

Responses